Asaramji ka Khatarnak Mishan | आसारामजी का खतरनाक मिशन

Written by Rajesh Sharma

📅 February 25, 2022

Asaramji ka Khatarnak Mishan

धर्मान्तरण को रोकना, विदेशी कम्पनियों को उखाड़ फेंकना, पाश्चात्य संस्कृति को रोकना ये सब Asaramji ka Khatarnak Mishan हैं । एक एक करके यहाँ हम समझेगें ।

Asaramji ka Khatarnak Mishan | Asaramji’s Dangerous Mission

धर्मान्तरण को रोकना :

संत आसारामजी व उनके शिष्यों द्वारा प्रतिवर्ष हजारों सत्संग कार्यक्रम, 1200 भजन-मंडली, प्रति माह 17 लाख ‘ऋषि प्रसाद’ व 3 लाख ‘लोक कल्याण सेतु’ पत्रिका का प्रकाशन तथा प्रति वर्ष 4000 संकीर्तन यात्रायें निकाली जाती हैं । उनके सैकड़ों आश्रमों में आयुर्वेदिक, होमियोपैथिक, एक्यूप्रेशर आदि की चिकित्सा की जाती है । गाँव-गाँव में गरीबों, आदिवासियों में निःशुल्क चिकित्सा-शिविर आयोजित होते हैं । कई चल-चिकित्सालय भी चलते हैं ।

Asaramji ka Khatarnak Mishanओड़िशा, गुजरात, मध्य प्रदेश,छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र आदि राज्यों के सबसे गरीब इलाकों में गरीबों, अनाश्रितों एवं विधवाओं के लिए बापू के आश्रम द्वारा राशनकार्ड दिये गये हैं, जिनके माध्यम से उनको हर माह अनाज व जीवनोपयोगी वस्तुएँ निःशुल्क दी जाती हैं । संत आसारामजी की ‘भजन करो, भोजन करो, पैसा पाओ योजना’ के तहत जिनकी आय कम है, खाली बैठे वृद्धों व परिवारजनों को सुबह से शाम तक भगवन्नाम-जप, सत्संग, कीर्तन करवाकर भोजन व पैसा (50 से 80 रुपये प्रतिदिन) दीया जाता है । संत आसारामजी ऐसी अनेकों योजनाएँ चलाकर ईसाई धर्मान्तरण को रोकते हैं ।

अवश्य पढें-  आसाराम बनने की कहानी

आसारामजी की जेल कहानी

विदेशी कम्पनियों को उखाड़ फेंकना :

Asaramji ka Khatarnak Mishanअगर बापूजी के चार करोड़ शिष्य व अनुयायी 50 सालों तक शराब व सिगरेट नहीं पीते हैं तो 37 लाख 64 हजार करोड़ रुपयों का शराब कम्पनियों को घाटा, 22 लाख 72 हजार करोड़ रुपयों का सिगरेट कंपनियों को घाटा होता है ।

‘वेलेन्टाइन डे’ से जुड़े सप्ताह के दौरान फूल, ग्रीटिंग आदि विभिन्न उपहारों की बिक्री के कारोबार में भी करोड़ों रुपयों का नुकसान होता है । ऐसे ही गुटका, ब्ल्यू फिल्म, अश्लील सामान आदि बनानेवाली कंपनियों का भी यही हाल है । यदि इन सभी आँकड़ों को जोड़ा जाय तो कई सौ लाख करोड़ रुपये हो जाते हैं । इतने बड़े नुकसान की वजह संत आसारामजी हैं ।

Related Artical: आसारामजी के साथ धोखा

बोरिया बाबा का खत मोदी के नाम

पाश्चात्य संस्कृति को रोकना :

नये त्यौहार बनाकर रोकना :

संत आसारामजी ने सन् 2007 से 14 फरवरी को ‘वेलेन्टाइन डे’ की जगह ‘मातृ-पितृ पूजन दिवस’ मनाना शुरू करवाया । इसका ऐसा प्रचार हुआ कि मानो ‘वेलेन्टाइन डे’ को उखाड़ने का तांडव शुरू हो गया हो । मलेशिया, ईरान, सउदी अरब, इंडोनेशिया आदि अनेक देशों ने वेलेन्टाइन डे पर प्रतिबंध लगा दिया । ‘मातृ-पितृ पूजन दिवस’ विश्वव्यापी हो गया है, जिससे ईसाई जगत में बहुत बड़ी खलबली मची है ।

Asaramji ka Khatarnak Mishanइस बाबा ने जेल में रहते हुए भी 25 दिसम्बर को ‘क्रिसमस डे’ के ही दिन ‘तुलसी पूजन दिवस’ के नये त्यौहार का प्रचार-प्रसार तथा 25 दिसम्बर से 1 जनवरी तक ‘विश्वगुरु सप्ताह’ अपने शिष्यों से शुरू करवाया । धर्मान्तरण करनेवाला ईसाई जगत बाबा के जेल में जाने के बाद भी परेशान है ।

Related Artical:  आसाराम बापू की असलियत

Asaramji ka Khatarnak Mishan- विभिन्न योजना चलाकर रोकना :

संत आसारामजी भारत में 17,000 निःशुल्क बाल संस्कार केन्द्र, 40 गुरुकुल, 1 डिग्री कॉलेज तथा प्रति वर्ष 4000 संकीर्तन यात्राएँ, 1500 सत्संग कार्यक्रम, 4 लाख 86 हजार भजन-संध्या कार्यक्रम तथा भारत में प्रति वर्ष 2200‘विद्यार्थी उत्थान शिविर, 25 से 27 लाख विद्यार्थियों मेें ‘दिव्य प्रेरणा प्रकाश ज्ञान प्रतियोगिता’, 2 लाख 50 हजार ‘युवा संस्कार सभाएँ’ व हजारों महिला उथान शिविरों आदि के माध्यम से पाश्चात्य कल्चर को भारत में फैलने से रोकते हैं ।

संत आसाराम बापू की भविष्यवाणियाँ :

3 दशक पूर्व पहली बार कहा भारत विश्वगुरु बनकर ही रहेगा ।

मनमोहन सिंह कुछ दिन और राज कर लें इसके बाद हमारे बच्चे राज करेंगे ।

हमारे आश्रम, समितियों व हमारे ऊपर झूठे आरोप व षड्यंत्र होगें, जिसके लिए आप सभी शिष्यों को तैयार रहना होगा (सन् 2004  में कहा था) ।

भारत को विश्वमानव की पीड़ा हरनेवाला बनाना है और बनेगा… ऐसी कई आत्माएँ प्रकट हो चुकी हैं । मेरे करोड़ों बच्चे भारत को विश्वगुरु बनायेंगे ।

Click for Video- Collage Scandal on Asaram Bapu

Related Artical:

नारायण साँईं की हकीकत

आसाराम बापू की विचारधारा क्या हैं ?

आपकी आवाज आसाराम

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

The Asaram File Film | द आसाराम फाइल फिल्म | The Asaram File Movie

The Asaram File Film | द आसाराम फाइल फिल्म | The Asaram File Movie

The Asaram File Film सन 2008 से लेकर अब तक की संत आसाराम तथा उनके आश्रम व उनके अनुयायुओं पर हुए अत्याचार की क्रूर सच्ची कहानी बताती है । ...

read more
Asarambapu ke Piche Kaun | आसारामबापू के पीछे कौन ?

Asarambapu ke Piche Kaun | आसारामबापू के पीछे कौन ?

Asarambapu ke Piche Kaun- झूठा आरोप लगवाने के लिए लड़कियों को कौन तैयार किया । उनके आश्रम में बच्चों के कंकाल किसने गाढा । इन तमाम बातों को यहाँ बताया जायेगा । Asarambapu ke Piche Kaun | आसारामबापू के पीछे कौन ? संत आसारामजी पर झूठा आरोप लगवाने के लिए लड़कियों को तैयार...

read more
Asaram Bapu ki Vichardhara- आसाराम बापू की विचारधारा क्या हैं ?

Asaram Bapu ki Vichardhara- आसाराम बापू की विचारधारा क्या हैं ?

सदैव सम व प्रसन्न रहना ईश्वर की सर्वोपरि भक्ति है । ऐसी ही Asaram Bapu ki Vichardhara बहुत सी हैं जो अपने जीवन में काम आती हैं । Asaram Bapu ki Vichardhara- आसाराम बापू की विचारधारा क्या हैं ? सदैव सम व प्रसन्न रहना ईश्वर की सर्वोपरि भक्ति है । किसी भी चीज को ईश्वर से...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more