Tin Krishi Kanoon | तीन कृषि कानून का मतलब | Meaning of Three Agricultural Laws

Written by Rajesh Sharma

📅 January 16, 2022

Tin Krishi Kanoon

Tin Krishi Kanoon का मकसद मंडी व्यवस्था को खत्म करके जनता को महंगाई का कटोरा तोहफे में दिया । यह गुलामी धोखे से कोरोना की आड में दिया गया ।

Tin Krishi Kanoon– Meaning of Three Agricultural Laws

Tin Krishi Kanoonगुलामी : तीनों कृषि कानून का मकसद मंडी व्यवस्था को खत्म करना तथा भारत के खाद्यानों को पूंजीपतियों के हाथ में देना है । यह कानून तमाम कानूनी प्रक्रिया को खत्म करता है । न्यायपालिका की इस विषय में कोई भूमिका नहीं रह जायेगी ।

कोरोना की आड़ में किसानों की आँखों में सूआ भोंका तथा जनता को महंगाई का कटोरा तोहफे में दिया । मिस्टर अंबानी का कृषि भंडारण गोदाम कानून पास होने के कई साल पहले से बनाया जा रहा था ।

अवश्य पढें-      किसान आंदोलन क्यों 

उदारिकरण और वैश्वीकरण

Tin Krishi Kanoonधोखा : आज खेती की हालत ऐसी है कि उससे जीवन यापन कर पाना मुश्किल है । मेहनत किसान करता है, मालामाल कोई और होता है । फसल बीमा के नाम पर कम्पनियों को फायदा दिया जा रहा है । सरकार, किसान और मजदूरों पर विश्व व्यापार संगठन की नीतियाँ थोपकर, उनकी बर्बादी का खेल देखती है । किसान कर्ज में डूबता जाता है और अन्त में फाँसी का फंदा चूम लेता है ।

राजसत्ता बड़ी चालाकी से अंबानी, टाटा, कोका-कोला आदि विशाल कम्पनियों के साथ खड़ी है । किसानों की MSP धीरे-धीरे खत्म करने के लिए 2001 में WTO की संधि-पेपर पर साइन किये गये ।

Tin Krishi Kanoonदृढ़ संकल्पी जीतता है : ऐसा नहीं है कि समस्यायों का हल नहीं होता, होता है, बस संगठित रूप से कमर कसकर खड़ा होने की देरी होती है । सन् 2011 में न्यूयार्क के आस-पास कंपनियों द्वारा 3,000 वर्ग मीटर जमीन कब्जा की गयी ।

लोग एक-एक करके खड़े होने लगे जिससे ‘ऑकुपाई वॉल स्ट्रीट आंदोलन’ की शुरुआत हो गयी । यह आंदोलन रूप बदलकर वित्तीय आतंक वाद व सरकारी नीतियों के खिलाफ इतना विशाल हो गया कि करीब 84 देशों के 900 शहरों में फैल गया ।

Related Artical:

विकास का आतंक

जी.एम. फसल जहर है

सेज का आतंक

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Jaivik Kheti Khad Davaiyan- जैविक खेती, खाद, दवाईयां एवं लाभ

Jaivik Kheti Khad Davaiyan- जैविक खेती, खाद, दवाईयां एवं लाभ

इस लेख में Jaivik Kheti Khad Davaiyan बनाने की विधि उपयोग तथा इसके लाभ क्या क्या है यह सब बताया जायेगा । फसल चक्र, गौ का अर्थशास्त्र आदि भी । Jaivik Kheti Khad Davaiyan- जैविक खेती से होने वाले लाभ कृषकों की दृष्टि से लाभ * भूमि की उपजाऊ क्षमता में वृद्धि हो जाती है ।...

read more
Vaidik Krishi vigyan- वैदिक कृषि विज्ञान क्या है ?

Vaidik Krishi vigyan- वैदिक कृषि विज्ञान क्या है ?

Vaidik Krishi vigyan का ऋग्वेद में कृषि का गौरवपूर्ण उल्लेख मिलता है । इसका उपयोग कैसे कहाँ होता है । वारिष का मापक यंत्र कैसा है । Vaidik Krishi vigyan- What is Vedic Agricultural Science ? विश्व के प्राचीनतम ग्रंथ ऋ ग्वेद में कृषि का गौरवपूर्ण उल्लेख मिलता है ।...

read more
Jaivic Kheti Kya Hai | जैविक खेती क्या है | What is Organic Farming ?

Jaivic Kheti Kya Hai | जैविक खेती क्या है | What is Organic Farming ?

Jaivik Kheti Kya Hai यह इस लेख में बडे सरल तरीके से समझाया गया है तथा उसके क्या क्या फायदे हैं तथा रासायनिक व कीटनाशको के क्या क्या नुकसान है । Jaivik Kheti Kya Hai | जैविक खेती क्या है | What is Organic Farming ? Jaivik Kheti Kya Hai यह एक ऐसी पध्दति है, जिसमें...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more