Islam par Pratiband Kyon | इस्लाम पर प्रतिबंध क्यों | Why Islam Banned ?

Written by Rajesh Sharma

📅 March 8, 2022

Islam par Pratiband Kyon

Islam par Pratiband Kyon- सरकार यह मानती है कि मुसलमान कट्टरवाद के पर्याय हैं इसलिए सरकार को विवश होकर यह क़ानून बनाना पड़ा है । कुरान के वाहियात उपदेश व इनकी बर्बरता का विश्वस्तरीय सर्वेक्षण भी देखेगें ।

Islam par Kada Pratiband

नमाज व बुर्के पर पाबन्दी

Islam par Pratiband Kyon

जापान में इस्लाम के प्रचार-प्रसार पर कडा प्रतिबंध है। जापान सरकार यह मानती है कि मुसलमान कट्टरवाद के पर्याय हैं इसलिए आज के इस वैश्विक दौर में भी वे अपने पुराने नियम नहीं बदलना चाहते हैं ।

Islam par Pratiband Kyonमुस्लिम बहुल तजाकिस्तान की सरकार ने धार्मिक उन्माद को नियंत्रित करने के उद्देश्य से अट्ठारह साल से कम उम्र के युवकों को मस्जिदों में नमाज़ अदा करने पर प्रतिबन्ध लगा दिया है । तजाक सरकार को विवश होकर यह क़ानून बनाना पड़ा है ।

फ्राँस की सरकार बुर्के जैसी कुप्रथा के खलिाफ सख्त कानून बनायेगी। सार्वजनिक स्थानों पर बुर्का पहनने वाली महिलाओं को 700 पाउंड (करीब 51 हजार रुपए) से ज्यादा का जुर्माना देना पड़ेगा। यह जुर्माना राशि उन मुस्लिम पुरुषों के लिए दोगुनी हो सकती है, जो महिलाओं को बुर्का पहनने के लिए मजबूर करते हैं ।

Realated Artical

लव जिहाद एक युद्ध है

इस्लाम में महिलाओं की स्थिति

इस्लाम की असलियत

कुरान कैसे बनी

पवित्र कुरान के वाहियात उपदेश

kuran par Pratiband Kyon* हे ‘ईमान’ लाने वालो! ‘मुश्रिक’ (मूर्तिपूजक) नापाक हैं।     (10.9.28 पृ. 371)

* जिन लोगों ने हमारी आयतों का इन्कार किया, उन्हें हम जल्द अग्नि में झोंक देंगे। जब उनकी खालें पक जाएंगी तो हम उन्हें दूसरी खालों से बदल देंगे ताकि वे यातना का रसास्वादन कर लें । निःसन्देह अल्लाह प्रभुत्वशाली तत्वदर्शी हैं। (5.4.56 पृ. 231)

* अल्लाह ‘काफिर’ लोगों को मार्ग नहीं दिखाता । (10.9.37 पृ. 374)Islam par Pratiband Kyon

* फिर, जब हराम के महीने बीत जाऐं, तो ‘मुश्रिको’ को जहाँ-कहीं पाओ कत्ल करो, और पकडो और उन्हें घेरो और हर घातकी जगह उनकी ताक में बैठो । फिर यदि वे ‘तौबा’ कर लें ‘नमाज’ कायम करें और, जकात दें तो उनका मार्ग छोड़ दो । निःसंदेह अल्लाह बड़ा क्षमाशील और दया करने वाला है। (पा0 10, सूरा. 9, आयत 5,2ख पृ. 368)

* फिटकारे हुए, (मुनाफिक) जहां कही पाए जाऐंगे पकड़े जाएंगे और बुरी तरह कत्ल किए जाएंगे । (22.33.61 पृ. 759)

* (कहा जाऐगा): निश्चय ही तुम और वह जिसे तुम अल्लाह के सिवा पूजते थे ‘जहन्नम’ का ईधन हो । तुम अवश्य उसके घाट उतरोगे ।

* ‘अल्लाह ने तुमसे बहुत सी ‘गनीमतों’ का वादा किया है जो तुम्हारे हाथ आयेंगी । (26.48.20 पृ. 943)

* तो जो कुछ गनीमत (का माल) तुमने हासिल किया है उसे हलाल व पाक समझ कर खाओ ।    (10.8.69. पृ. 359)

IslamPratiband* हे नबी ! ‘काफिरों’ और ‘मुनाफिकों’ के साथ जिहाद करो, और उन पर सखती करो और उनका ठिकाना ‘जहन्नम’ है, और बुरी जगह है जहाँ पहुँचे । (28.66.9. पृ. 1055)

* यह बदला है अल्लाह के शत्रुओं का (‘जहन्नम’ की) आग । इसी में उनका सदा का घर है, इसके बदले में कि हमारी ‘आयतों’ का इन्कार करते थे । (24.41.28 पृ. 865)

* निःसंदेह अल्लाह ने ‘ईमानवालों’ (मुसलमानों) से उनके प्राणों और उनके मालों को इसके बदले में खरीद लिया है कि उनके लिए ‘जन्नत’ हैः वे अल्लाह के मार्ग में लड़ते हैं तो मारते भी हैं और मारे भी जाते हैं। (11.9.111 पृ. 388

* उन (काफिरों) से लड़ो ! अल्लाह तुम्हारे हाथों उन्हें यातना देगा, और उन्हें रुसवा करेगा और उनके मुकाबले में तुम्हारी सहायता करेगा, और ‘ईमान’ वालों लोगों के दिल ठंडे करेगा । (10.9.14. पृ. 369) – (अनु. मौहम्मद फारुख खां, प्रकाशक मक्तबा अल हस्नात, रामपुर उ.प्र. 1966)

कुरान मजीद की पवित्र पुस्तक के प्रति आदर रखते हुए उक्त आयतों के सूक्ष्म अध्ययन से यह स्पष्ट होता है कि ये आयतें बहुत हानिकारक हैं और घृणा की शिक्षा देती हैं ।

इससे एक तरफ मुसलमानों और दूसरी ओर देश के शेष समुदायों के बीच मतभेदों की पैदा होने की सम्भावना है। – (ह. जेड. एस. लोहाट, मेट्रोपोलिटिन मजिस्ट्रेट दिल्ली 31.7.1986)

मुसलमानों की बर्बरता का विश्वस्तरीय सर्वेक्षण

Islam par Pratiband Kyon* दुनिया में 7 देश ऐसे हैं जहाँ सरकार आपको नास्तिक/काफ़िर होने के कारण फांसी पर लटका सकती है ।

* पूरी दुनिया में होनेवाले सारे आत्मघाती हमलों का 95% से भी ज्यादा मुसलमानों द्वारा ही किया जाता है ।

* फ्राँस में मुसलमानों की संख्या मात्र 12% होने के बावजूद वहाँ के जेलों में उनकी संख्या 60 से 70% है ।

* मानवाधिकारों पर यूरोपीय सहमती  European Convention on Human Rights (ECHR) द्वारा बनाये गए नियमों का उल्लघंन करने वाले राष्ट्रों की सूचि में तुर्की लगातार तीन सालों से शीर्ष पर है ।

* स्त्रियों के प्रति सांस्कृतिक, जनजातीय और धार्मिक खतरों के मामले में शीर्ष के पांच देशों में चार मुस्लिम बहुल देश हैं ।

* ऐसे अफ्रीकी नागरिकों, जो कि मुसलमानों द्वारा नौकर/बंधुआ मजदूर बनाए गए या उस क्रम में उनकी मृत्यु हो गई, की संख्या अनुमानतः 14 करोड़ से भी ज्यादा है । अकेले मॉरिटानिया में ही 5 लाख से ज्यादा बंधुआ मजदूर हैं ।

Realated Artical

लव-जिहाद औरलैण्ड-जिहाद का आतंक

इस्लामी संगठन पी.एफ.आई. क्या है ?

इस्लामी युद्ध का राजनैतिक लक्ष्य

इस्लामिक आतंकवाद

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Love_Jihad Kya Kyu Kaise- लव_जिहाद क्या क्यों कैसे किया जाता है ?

Love_Jihad Kya Kyu Kaise- लव_जिहाद क्या क्यों कैसे किया जाता है ?

यहाँ Love_Jihad Kya Kyu Kaise जानने के लिए पढें । लभ जिहाद क्या है, कैसे और क्यों किया जाता है । इसके दुष्परिणाम क्या हैं । Love_Jihad Kya Kyu Kaise- लव_जिहाद क्या क्यों कैसे किया जाता है ? (1) प्रश्न :- #लव_जिहाद कसे कहते हैं ? उत्तर :- जब कोई #मुसलमान #पुरुष किसी...

read more
Love JIhad ek Yudha । लव जिहाद एक युद्ध है

Love JIhad ek Yudha । लव जिहाद एक युद्ध है

हिन्दू धर्म और राष्ट के विरुद्ध Love JIhad ek Yudha है। इसके लिए मुसलमान युवकों को बहुत धन व अत्याधुनिक साधन दिये जाते हैं। इसे समझेगें । लव जिहाद हिन्दू धर्म और राष्ट के विरुद्ध...

read more
Kashmir Atank Aur Film | कश्मीर आतंक और फिल्म | Kashmir Terror and Film

Kashmir Atank Aur Film | कश्मीर आतंक और फिल्म | Kashmir Terror and Film

यदि कहानी पाश्विक और क्रूर है उसे वैसा ही दिखाए जाने में गलत क्या है । Kashmir Atank Aur Film लेख में नरसंहार कहाँ कब और कैसे तथा किसके द्वारा किया गया । इसके पीछे कौन- कौन सी शक्तियाँ काम कर रही थी आदि यहाँ देखें । [learn_more caption="Kashmir Atank Aur Film"...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more