Kuran Kaise Bani | कुरान कैसे बनी | How the Quran was Made ?

Written by Rajesh Sharma

📅 March 9, 2022

Kuran Kaise Bani

यह सत्य है कि मुहम्मद ने अपने जीवन काल में सभी आयतों को संग्रह कर, सम्पादित नहीं किया था । बाद में यह Kuran Kaise Bani इसको जानेगें ।

Click here to learn more

Kuran Kaise Bani | How the Quran was Made ?

Kuran Kaise Bani(1) यह एक ऐतिहासिक सत्य है कि पैगम्बर मुहम्मद ने अपने जीवन काल में सभी आयतों को संग्रह कर, सम्पादित नहीं किया था । बुखारी (:509) बताते हैं कि पहले खलीफा अबू बकर (632-634 एडी) ने जैद-वि-ताबित, जो कि पैगम्बर का लेखक रहा था, को कुरान संग्रह करने को कहा तो उसने कहा-

तुम कोई ऐसा काम कैसे कर सकते हो जिसे स्वयं अल्लाह के रसूल के नहीं किया । फिर भी उसने संग्रह किया। मगर जैद का यह संग्रह दूसरे खलीफा उमर के खलीफा काल (634-644 एडी) तक प्रकाश में नहीं आया। वह प्रति उमर की बेटी हफ्जा के पास रही ।

(2) फिर तीसरे खलीफा उस्मान (644-656 एडी) ने 651 में दुबारा जैद सहित तीन अन्य कुरेशों की एक समिति बना दी, तथा कुरान संग्रह करने का आदेश दिया, और कहा कि मतभेद होने पर उन शब्दों को कुरेशी बोली में सम्पादित कर दिया जाए ।

इस समिति द्वारा व्यंजन व कुरेश बोली आधारित संग्रहीत कुरान को उस्मान ने सब मुख्य शहरों में भेज दिया, और आदेश दिया कि कुरान के अन्य सभी विद्यमान विभिन्न संस्करणों को नष्ट कर दिया जाए ।

Realated Artical

लव जिहाद एक युद्ध है

इस्लाम में महिलाओं की स्थिति

इस्लाम की असलियत

इस्लाम पर प्रतिबंध क्यों

Click here to learn more

Kuran Kaise Bani | How the Quran was Made ?

(3) कुरान के वर्तमान संस्करण में वही सामग्री है जो कि जैद समिति को खजूर की छालों, पत्थरों, सीगों, चमड़ों आदि पर लिखी मिला, और कुरान याद करने वाले पैगम्बर के साथियों ने बताई । कुछ खजूर-ताल पत्रों पर लिखी सामिग्री को तो पैगम्बर के घरेलू जानवर खा गए (डाष्टी, पृ.28) । फिर पैगम्बर मुहम्मद भी आयतें भूल जाया करते थे (बुखारी 4:558;562, पृ. 508-509)

(4) कुरान के 114 सूराओं का क्रम वहीं नहीं है जिस क्रम में वे अवतरित हुई थी । परन्तु वे लम्बाई के आकार के हिसाब से रखी गई हैं, यानी जो आयतें लम्बी हैं वे पहले, और छोटी बाद में रखी गई हैं ।

(5) कुरान (2 : 105) के अनुसार कुछ आयतें पारस्परिक विरोधी हैं जिन्हें अल्लाह ने बाद में मनसूख (निरस्त) कर दिया और उनकी जगह नासिख (नई) आयतें भेज दीं । आखिर सर्वज्ञ, सर्वव्यापक अल्लाह को अपने संदेशों को बाद में बदलने की ऐसी आवश्यकता क्यों पड़ गई ?

(6) कुरान में कभी अल्लाह एक वचन में तो कभी द्विवचन में बोलता है । अनेक सूराओं में पैगम्बर मुहम्मद और अल्लाह के संवाद में बोलने वाला ही स्पष्ट नहीं है (अली डाष्टी, पृ. 148-151 एवं सूरा 111,113,114) । कुरान का पहला सूरा अल फातिहा एक ईश प्रार्थना है । अत: यह सूरा किसी भी प्रकार अल्लाह का वचन नहीं हो सकता ।

Realated Artical

लव-जिहाद औरलैण्ड-जिहाद का आतंक

इस्लामी संगठन पी.एफ.आई. क्या है ?

इस्लामी युद्ध का राजनैतिक लक्ष्य

इस्लामिक आतंकवाद

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Love_Jihad Kya Kyu Kaise- लव_जिहाद क्या क्यों कैसे किया जाता है ?

Love_Jihad Kya Kyu Kaise- लव_जिहाद क्या क्यों कैसे किया जाता है ?

यहाँ Love_Jihad Kya Kyu Kaise जानने के लिए पढें । लभ जिहाद क्या है, कैसे और क्यों किया जाता है । इसके दुष्परिणाम क्या हैं । Love_Jihad Kya Kyu Kaise- लव_जिहाद क्या क्यों कैसे किया जाता है ? (1) प्रश्न :- #लव_जिहाद कसे कहते हैं ? उत्तर :- जब कोई #मुसलमान #पुरुष किसी...

read more
Love JIhad ek Yudha । लव जिहाद एक युद्ध है

Love JIhad ek Yudha । लव जिहाद एक युद्ध है

हिन्दू धर्म और राष्ट के विरुद्ध Love JIhad ek Yudha है। इसके लिए मुसलमान युवकों को बहुत धन व अत्याधुनिक साधन दिये जाते हैं। इसे समझेगें । लव जिहाद हिन्दू धर्म और राष्ट के विरुद्ध...

read more
Kashmir Atank Aur Film | कश्मीर आतंक और फिल्म | Kashmir Terror and Film

Kashmir Atank Aur Film | कश्मीर आतंक और फिल्म | Kashmir Terror and Film

यदि कहानी पाश्विक और क्रूर है उसे वैसा ही दिखाए जाने में गलत क्या है । Kashmir Atank Aur Film लेख में नरसंहार कहाँ कब और कैसे तथा किसके द्वारा किया गया । इसके पीछे कौन- कौन सी शक्तियाँ काम कर रही थी आदि यहाँ देखें । [learn_more caption="Kashmir Atank Aur Film"...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more