Angrejo ka Gulam Nahin- भारत का कौनसा राज्य अंगेजों का गुलाम नहीं

Written by Rajesh Sharma

📅 February 8, 2022

Angrejo ka Gulam Nahin

आततायी गिरोह अंग्रेजों को कांग्रेस ने भारत के शासक प्रचारित करना शुरू किया जबकि भारत का अनेक राज्य Angrejo ka Gulam Nahin था कभी भी ।

Bharat ka Kaun sa Rajy Angrejo ka Gulam Nahin

बाहरी-अजनबी आततायी गिरोह अंग्रेजों को  कांग्रेस ने भारत के शासक प्रचारित करना शुरू किया था । 1912 ईस्वी में पहली बार अंग्रेज अपने हिस्से के भारत की राजधानी कोलकाता से दिल्ली ले गए परंतु चाटुकार कांग्रेस ने कंपनी के जमाने से ही पूरे भारत को अंगे्रजों का गुलाम प्रचारित किया ।

Angrejon ka Gulaam Nahin रहे सन् 1947 ईस्वी तक स्वतंत्र रहे राज्यों ने, सरदार पटेल के अनुरोध पर देशभक्ति की भावना से भरकर नए संघ राज्य में अपने-अपने राज्यों का विलय किया था । इसमें उन राजाओं की महान देशभक्ति थी । यह भी पढें-  सत्ता हस्तांतरण की संधि   |  Related Artical-  शासक हुआ शैतान

Angrejo ka Gulam Nahinटिहरी, ग्वालियर, जोधपुर, जयपुर, बीकानेर, जैसलमेर, रीवा, त्रावणकोट, कोचीन, बड़ौदा, जम्मू, लद्दाख, बहावलपुर, कपूरथला, जींद, फरीदकोट,पटियाला, नाभा, कुल्लू, कांगड़ा, रामपुर, काशी, तिरहुत, दरभंगा, भोपाल, इंदौर, रोहतक, मेवात, आमरा, भरतपुर, धौलपुर, नौगांवी, कोटा, बूंदी, भावनगर, नवानगर, पोरबंदर, कोल्हापुर, हैदराबाद, मैसूर

ये राज्य एक दिन भी Angrejo ka Gulam Nahin थे, अंग्रेजी शासन में नहीं थे ।

यदि काशीनरेश स्वतंत्र न होते तो काशी हिन्दू विश्वनिद्यालय के लिए 1,000 एकड़ भूमि वे कभी नहीं दे सकते थे । इसके लिए अंग्रेजों से इजाजत लेनी पड़ती पर वह नहीं लेनी पड़ी । बड़ौदा नरेश स्वतंत्र न होते तो श्री अरविंद को अपने यहां नहीं रख सकते थे। इसी राज्य की अच्छी व्यवस्था देखकर  स्वामी विवेकानन्द खूब सराहना करते थे।

प्रथम और द्वितीय महायुद्ध में बीकानेर, जोधपुर, जयपुर, जैसलमेर, रीवा, ग्वालियर आदि राज्यों के राजा अपनी-अपनी सेना के साथ इंग्लैंड के पक्ष में स्वतंत्र राज्य  की हैसियत से लड़े थे । इंग्लैंड की रानी से उनकी बराबरी की मैत्री थी । भारतीय सेनाओं के शौर्य से दोनों महायुद्धों में इंग्लैंड का पक्ष जीत सका । परंतु इसे भी छिपाया गया ।

ये भी पढे- राज्य अंग्रेजों का गुलाम नहीं बना था

यह भी पढें-

सुभाष चंद्र बोस भारत के पहले प्रधानमंत्री

व्यवस्था परिवर्तन की जरूरत

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Kashmir Atank Aur Film | कश्मीर आतंक और फिल्म | Kashmir Terror and Film

Kashmir Atank Aur Film | कश्मीर आतंक और फिल्म | Kashmir Terror and Film

यदि कहानी पाश्विक और क्रूर है उसे वैसा ही दिखाए जाने में गलत क्या है । Kashmir Atank Aur Film लेख में नरसंहार कहाँ कब और कैसे तथा किसके द्वारा किया गया । इसके पीछे कौन- कौन सी शक्तियाँ काम कर रही थी आदि यहाँ देखें । [learn_more caption="Kashmir Atank Aur Film"...

read more
Da kashmir Phail Film | द कश्मीर फाइल फिल्म | The Kashmir File Film

Da kashmir Phail Film | द कश्मीर फाइल फिल्म | The Kashmir File Film

एक सच्ची कहानी है Da kashmir Phail Film, जो कश्मीरी पंडित समुदाय के कश्मीर नरसंहार के पीड़ितों के वीडियो साक्षात्कार पर आधारित है। और भी आगें पढेगें कश्मीर नरसंहार क्यों हुआ था ? षडयंत्र कौन रच रहा था ? तथा पनुन कश्मीरियों की माँग क्या है आदि । [learn_more caption="Da...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more