Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1

Written by Rajesh Sharma

📅 March 29, 2022

Bharatiy Sanskriti- 1 | Indian Culture, Part- 1

Bharatiy Sanskriti- 1 में भारत की महान संस्कृति के बारे में बताया गया है, विश्व के महान खोजकर्ता, दार्शनिका आदि के विचार यहाँ पढें।

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1भारतीय दार्शिनिकों की सूक्ष्मता (चतुरता) ने यूरोप के अधिकतम महान दार्शिनिकों को (स्कूल के बच्चों की भाँति) बहुत बड़ी दिशा दी है ।

– टी.एस. एलिएट (1888-1965), 1948 में साहित्य नोबल प्राईज विजेता, अमेरिका के महान दार्शनिक कवि

 

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1हम भारतीयों के बहुत आभारी (ऋणी) हैं जिन्होने हमें गणना (ज्ञान) करना सिखाया जिसके बिना कोई उपयुक्त वैज्ञानिक खोज हो ही नहीं सकती है ।

– अल्बर्ट आइन्स्टाइन (1879-1955),  नोबल प्राईज विजेता, महान दार्शनिक विज्ञानि

 

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1भारतीय दार्शनिकों के बारे में बातचीत के बाद पाया कि सांख्यिक भौतिक विज्ञान के कुछ विचार जो कि अति तुच्छ मालूम जान पड़ते थे अचानक उनका अधिक अच्छा अर्थ पाया ।

– वार्नर हैसेनबर्ग (1901-76), नोबल प्राईज विजेता महान भौतिक विज्ञानी

 

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1हम आधुनिक भौतिक विज्ञान में प्राचीन हिन्दू बौद्धिकता को एक उदाहरण युक्त प्रदर्शन प्रोत्साहन (साहस) एवं शोधन के रूप में पायेंगे ।

– जूलियस आर. ओपनहेमर (1904-1967), महान भौतिक विज्ञानी अणुबम के

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1पश्चिमी विज्ञान को आध्यात्मिकता की कमी से बचाने के लिए कुछ पूर्वी देशों विचारों (आध्यात्मिक ज्ञान) को पश्चिमी (देशों) में अंतरण (ट्रांसफर ) करना ही चाहिए ।

– एर्विन छोरोडीनेर (1887-1961), ध्वनि तरंगो पर खोज करने वाले आ स्ट्रेलीया के भौतिक विज्ञानी जिन्हे इनके खोजो पर नोबल प्राईज प्राप्त हुआ ।

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1* मुसे पूर्ण विश्वास है कि हमारे पास सब कुछ (सारा ज्ञान) ज्योतिष विज्ञान खगोल विज्ञान एवं आध्यात्मिकता गंगा के किनारे से ही आया है ।

* इसको याद रखना बहुत महत्वपूर्ण (जरुरी) है कि करीब 2500 वर्ष-पहले लीस्ट पाइथागोरस (वैज्ञानिक) सेमस (देश) से गंगा किनारे रेखागणित सीखने गया था ।

* लेकिन वह (गैर जिम्मेदार) इस विचित्र अपरिचित यशस्वी ब्राह्मण विज्ञान को जो अबतक यूरोप में स्थापित नहीं हो सका पूर्णत: नहीं समझ सका था ।

– फ्रेन्कोइस एम. वोलटेर (1694-1774) महान फ्रेन्च दार्शनिक कवि

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1भारत धर्म की भूमि है, मानवीयता की पालन स्थल है। मानवीय प्रवचनों का जन्मस्थान है, पौराणिका कथाओं की प्राचीन माँ है। सांस्कृतिक परम्परा की सबसे प्राचीन स्थली है ।

– मार्क ट्वेन (1835-1910)

 

शुरूआत में प्रत्येक व्यक्ति के मन में ऐसा विचार अवश्य आता है कि भारतीय साहित्य के खजाने से परिचय हो- क्योंकि जो जमीन बौद्धिक उत्पादों (दार्शिनकों) में इतना धनी है और उसके विचारों की परम वर्ग व्यवस्था है ।

– फ्रेडरिच हेग

 

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1वेदों ने मुझे बारम्बार साथ दिया। उससे मुझे आंतरिक शाँति (पारितोषिक) मिला। अविश्वनीय शक्ति एवं अटूटशाँती मिली ।

– राल्फ वाल्डो एमर्सन

 

Bharatiy Sanskriti- 1 | भारतीय संस्कृति, भाग- 1

भारतीय जीवन प्राकृतिक दृष्टि एवं जीने की वास्तविक रास्ता देता है हम पश्चिमी लोग अप्राकृतिक नकाब लगाकर अपने को ढगते हैं ।

-जार्ज बर्नाड शॉ

 

इसे  भी पढें :

भारतीय संस्कृति, भाग- 1

भारतीय संस्कृति, भाग- 2

भारतीय संस्कृति, भाग- 3

भारतीय संस्कृति, भाग- 4

भारतीय संस्कृति, भाग- 5

भारतीय संस्कृति, भाग- 6

भारतीय संस्कृति, भाग- 7

भारतीय संस्कृति, भाग- 8

भारतीय संस्कृति, भाग- 9

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Vayuyan v Nauka- वायुयान व नौका की खोज किसने की ?

Vayuyan v Nauka- वायुयान व नौका की खोज किसने की ?

वैदिक काल में भारतीय संसकृति के शास्त्रों में Vayuyan v Nauka का वर्णन आता है । इसका उपयोग प्राचीन काल से ही चला आ रहा है । Vayuyan v Nauka- Who Invented the Aircraft and Boat ? वायुयान | Aircraft भरद्वाज ऋषि के अनुसार नारायण, शंख, विश्वम्भर आदि आचार्यों ने विमान की...

read more
Havai Jahaj Ki Khoj- हवाई जहाज की खोज किसने की ?

Havai Jahaj Ki Khoj- हवाई जहाज की खोज किसने की ?

Havai Jahaj Ki Khoj हवाई जहाज की खोज कब और किसने की यह जानकारी तथा विजली कितने प्रकार की हौती है यह सब इस लेख में पढने को मिलेगा । Havai Jahaj Ki Khoj- Who Discovered the Airplane ? 1903 में विदेशों में आकाश यात्रा का आविष्कार होने से बहुत पहले प्राचीन भारत में इसकी...

read more
Prakash Gati Evan Sapta-Rang । प्रकाश गति एवं सप्त-रंग

Prakash Gati Evan Sapta-Rang । प्रकाश गति एवं सप्त-रंग

Prakash Gati Evan Sapta-Rang के वारे में यहाँ जानेगें कि प्रकाश के सोतों रंग क्या हैं व प्रकाश की गति क्या है व इनकी खोज सर्वप्रथम किसनेकी । Prakash Gati Evan Sapta-Rang । Seven Colors and Speed of Light सप्त युंजान्त रथमेकचक्रो अश्वो वहति सप्तनामा । अथर्ववेद 13-3-18...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more