Keral Nan Rep Kes kya hai | केरल नन रेप केस क्या है ?

Written by Rajesh Sharma

📅 January 18, 2022

Keral Nan Rep Kes में बिशप फ्रेंको मुलक्कल को कोर्ट से बरी करने के बाद देश की प्रमुख हस्तियाँ कोर्ट के फैसले से आहत हैं। यहाँ हम पूरे केश को समझेगें ।

Keral Nan Rep Kes kya hai | केरल नन रेप केस क्या है ?

नन बलात्कार मामले में केरल के रोमन कैथोलिक चर्च के बिशप फ्रेंको मुलक्कल (Roman Catholic Bishop Franco Mulakkal) को कोर्ट से बरी करने के बाद प्रमुख हस्तियों और लोगों को प्रतिक्रियाएँ सामने आई हैं। वे कोर्ट के फैसले से खासा आहत हैं। पिछले 3-4 वर्षों से पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए हरसंभव प्रयास में जुटीं अनुपमा कोर्ट के फैसले से बेहद निराश हैं। कुराविलंगड में अपने कॉन्वेंट के बाहर मीडियाकर्मियों से बात करते हुए उन्होंने कहा, “पैसे और पॉवर की जीत हुई है। कोर्ट के फैसले से हम सबको दुख पहुँचा है। हम इस फैसले पर विश्वास नहीं कर सकते।”

Keral Nan Rep Kesराष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा (Rekha Sharma) ने भी इस फैसले पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा, “केरल अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायालय के फैसले से हैरान हूँ। पीड़िता को उच्च न्यायालय जाना चाहिए। न्याय की इस लड़ाई में एनसीडब्ल्यू उनके साथ है।”

अभिनेत्री रीमा कलिंगल भी कोर्ट के फैसले से खुश नहीं हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर कुराविलंगाडु की ननों की एक तस्वीर हैशटैग ‘अवलकोप्पम’ के साथ साझा की है। वहीं पार्वती थिरुवोथु ने नन की तस्वीर के साथ अपने फेसबुक पेज पर ‘ऑलवेज विद हर’ लिखा है।

Related Artical-

पादरियों द्वारा यौन शोषण

मुस्लिम हिजाबका असली राज

जाँच टीम को झटका

यह फैसला अभियोजन पक्ष, जाँच दल और शिकायतकर्ता के लिए चौंकाने वाला है। मीडिया को जवाब देते हुए, स्पेशल पब्लिक प्रोसेक्यूटर जितेश जे बाबू ने कहा कि इस मामले को हाईकोर्ट में चुनौती दी जाएगी। उन्होंने आगे कहा, “मैं समझ नहीं पा रहा हूँ कि किस आधार पर कोर्ट ने इस मामले को खारिज किया है।” इस मामले की जाँच कर रहे कोट्टायम (Kottayam) जिले के पूर्व पुलिस प्रमुख हरिशंकर को भी इस फैसले से निराशा हुई है।

उनके (हरिशंकर) अनुसार, उन्हें उम्मीद नहीं थी कि कोर्ट नन से बलात्कार मामले में ऐसा फैसला सुनाएँगे, क्योंकि अभियोजन पक्ष और जाँच टीमों को इस मामले में 100 प्रतिशत यकीन था कि दोषी बिशप को सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि यह फैसला बलात्कार के मामलों के संबंध में सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालयों के विभिन्न फैसलों की अनदेखी करता है। निश्चित रूप से, यह फैसला भारतीय न्यायिक प्रणाली पर सवाल खड़ा करता है। हम इस फैसले को चुनौती देंगे, क्योंकि इस फैसले से समाज में गलत संदेश जा रहा है।

बता दें कि नन से दुष्कर्म के मामले में केरल के रोमन कैथोलिक चर्च के बिशप फ्रेंको मुलक्कल (Roman Catholic Bishop Franco Mulakkal) को कोर्ट ने शुक्रवार (14 जनवरी 2022) को बरी कर दिया था। इसके पीछे कोर्ट ने पीड़िता के बयानों में समानता का नहीं होना और आरोपित पर दोष को साबित करने के लिए अभियोजन पक्ष द्वारा पर्याप्त सबूत उपलब्ध नहीं कराने जैसे कई कारणों का हवाला दिया था। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जी गोपाकुमार द्वारा सुनाए गए 289 पन्नों के फैसले के अधिकांश विवरण बाद में सामने आए थे।

केस क्या था ?

जून, 2018 में कुराविलंगड पुलिस स्टेशन में दर्ज एक प्राथमिकी के मुताबिक एक कैथोलिक चर्च की वरिष्ठ नन ने जालंधर के तत्कालीन बिशप फ्रेंको मुलक्कल पर उनके साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगाया। एफआईआर के मुताबिक 2014 और 2016 के बीच कुराविलंगड में मिशन कॉन्वेंट में  पीड़ित को 13 बार अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर किया गया ।
Keral Nan Rep Kes

ननों ने की थी भूख हड़ताल  

प्राथमिकी दर्ज होने के कुछ ही समय बाद, सितंबर 2018 में, पीड़िता के करीबी ननों के एक समूह ने मुलक्कल की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कोच्चि में केरल उच्च न्यायालय परिसर के सामने भूख हड़ताल शुरू की। ननों के इस विरोध प्रदर्शन की वजह से मुलक्कल को जालंधर से कोच्चि लाया गया। पुलिस ने तीन दिनों तक बिशप से पूछताछ की और आखिरकार विशेष जांच दल ने उन्हें उसी महीने गिरफ्तार कर लिया था।उन पर नन को गलत तरीके से बंधक बनाने, दुष्कर्म करने, अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने और धमकी देने जैसे गंभीर आरोप लगाए गए थे। करीब एक महीने बाद वह जमानत पर छूट गए। बंद अदालत में करीब 105 दिनों तक चली सुनवाई के बाद उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया। कोर्ट ने उन्हें बरी करते समय सबूतों के अभाव का हवाला दिया।
Kerala nun rape case
क्यों अहम है यह मामला ?

यह पहली बार है जब किसी कैथोलिक बिशप को भारत में दुष्कर्म और यौन उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार किया गया और उस पर मामला दर्ज किया गया था। उनके खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज होने के बाद मुलक्कल को जालंधर में उनके कर्तव्यों से मुक्त कर दिया गया था। यह घटना लोगों का ध्यान इस ओर लेकर आई कि क्या चर्च के भीतर ननें यौन-दुर्व्यहार का शिकार हो रही हैं और उनके शिकायतों के निवारण के लिए कोई तंत्र मौजूद नहीं है?महिला संगठनों और ननों के समूह का मानना है कि अक्सर पादरियों के खिलाफ उत्पीड़न की शिकायतों पर किसी का ध्यान नहीं जाता है और प्रबंधन के लोगों पर ऐसे मामलों को दफन कर देने के आरोप लगते रहते हैं। महिला संगठनों का कहना है कि चर्च के भीतर की सत्ता संरचना में महिलाओं के लिए सुरक्षित जगह होनी चाहिए।
Kottayam court

Kottayam court – फोटो : ANI
ननों के समूह का क्या कहना है?
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण केरल जिले के कुराविलांगड कॉन्वेंट में रहने वाली पीड़ित के समर्थक नन समूह का कहना है कि वे इस मामले में न्याय लेकर रहेंगी। पीड़ित के न्याय की लड़ाई में चली आ रही लड़ाई का चेहरा रहीं सिस्टर अनुपमा ने मीडिया को दिए अपने बयान में कहा कि वे निश्चित रूप से फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती देंगी और अपने सहयोगी की लड़ाई को वे आगे लेकर जाएंगी। उन्होंने कहा कि वे अपनी लड़ाई तब तक जारी रखेंगी जब तक कि हमारी बहन को न्याय नहीं मिल जाता। पुलिस और अभियोजन पक्ष ने हमारे साथ न्याय किया लेकिन हमें न्यायपालिका से अपेक्षित न्याय नहीं मिला/  साभार – अमर उजाला, नई दिल्ली

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Padariyon Dwara Yaun Shoshan | पादरियों द्वारा यौन शोषण

Padariyon Dwara Yaun Shoshan | पादरियों द्वारा यौन शोषण

ईसाई Padariyon Dwara Yaun Shoshan, उन पर हुए मुकदमें तथा उनके द्वारा दिये गये मुआवजा आदि की चर्चा व सर्वे की रिपोर्ट यहाँ पेश होगी । Padariyon Dwara Yaun Shoshan | Sexual Abuse by Priests सूचना के अधिकार से प्राप्त जानकारी के अनुसार सिर्फ केरल में 63 पादरियों पर...

read more
Muslim hijabKa Asali Raj | मुस्लिम हिजाबका असली राज

Muslim hijabKa Asali Raj | मुस्लिम हिजाबका असली राज

बहुत सी मुस्लिम महिलाएं हिजाब पहनती है, कई देशों में इसे पहनने पर बैन लगा हुआ है । Muslim hijabKa Asali Raj क्या है यहाँ देखेगेे । कर्नाटक के हिजाब के खिताब के पीछे का असली राज की भी यहाँ मुख्य चर्चा होगी । Muslim hijabKa Asali Raj | मुस्लिम हिजाबका असली राज दुनिया की...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more