Missile ki Khoj- मिसाइल की खोज किसने की ?

Written by Rajesh Sharma

📅 June 8, 2022

Missile ki Khoj

यहाँ Missile ki Khoj मिसाइल की खोज किसने की, चक्र तथा सौर उर्जा का उपयोग कहाँ कहाँ व कैसे होता है यह सब जानकारी दी जा रही है ।

चक्र

मनुष्य को गति देने वावा महानतम् भारतीय आविष्कार-

आज के युग को यदि चक्र का युग बोला जाए, तो अतिश्योक्ति नहीं । मानव के यांत्रिक विकास का आधार चक्र ही है । सर्वप्रथम चक्र का रथ के रूप में यांत्रिक प्रयोग का उल्लेख विश्व के प्राचीनतम ग्रंथ ऋग्वेद के रथसूक्त में है ।

अभि व्ययस्व खदिरस्य सारमोजो धेहि स्पंदने शिंशपायाम् ।

अक्षवीलो वीलित वीलस्व मा यामादस्मादव जीहिपो न: ।

                                                                                                – ऋग्वेद 3:53:19

रथ के बारे में चक्र, नेमि ‘परिधि’, नाभि, अक्ष और ईषा के अतिरिक्त पवि का भी उल्लेख है, जो पहिए का टायर है । युद्ध के रथों के चक्रों में क्षुरा ‘ब्लेड’ का प्रयोग भी उल्लेखनीय है ।

यह रथ चक्र ही मूल है जो समय की आवश्यकतानुसार विभिन्न आकार लेता गया.. चरखा बना.. सुदर्शन चक्र बना.. पानी खींचने की चरखी बना.. और आधुनिक औद्योगिक युग के रथ की धुरी बनकर अविराम चलता जा रहा है ।

Missile ki Khoj- मिसाइल की खोज किसने की ?

वर्तमान युध्दों में जिस मिसाईल (प्रक्षेपास्त्र) प्रणाली का उपयोग किया जाता है  । उसका जन्म भारत में हुआ  । पुराने ग्रंथों में अनेक प्रकार के ऐसे प्रक्षेपास्त्रों का उल्लेख मिलता है ,जो मन की शक्ति द्वारा संचालित होते थे । 18 वी शताद्बी में भारत में श्रीरंगपट्टम के दो युद्धों में जिन राँकेटों का प्रयोग किया गया था,वे राँकेट अभी भी लंदन के पास वूलविच के रोटुंड़ा म्यूजियम मे रखे हुए हैं  ।

ब्रिटेन के वैज्ञानिक सर बर्नाड़ लावेल ने ‘द ओरिजन एण्ड़ इंटरनेशनल इकोनाँमिक्स आँफ स्पेस एक्सप्लोंरेशन’ में लिखा हैं कि इन भारतीय राँकेटों का अध्यन करने के बाद विलियम कांग्रेव ने सितंबर 1805 में इनमें सुधार करके प्रोटोटाइप राकर्टो का प्रदर्शन किया । इस प्रदर्शन सें प्रधानमंत्री विलियम पिट तथा वार लार्ड़ केस्टल रेग के सचिव अत्यंत प्रभावित हुए । बाद में इनका प्रयोग 1806 में फ्रांस तथा 1807 में नेपोलियन के विरुद्व किया गया  ।                                                                                                                                                                         – इंडिया 2020, डॉ. अब्दुल कलाम

पिछले दिनों अमेरिकी दबाव के चलते रूस द्वारा क्रायोजेनिक इंजन (450 सेक ऊर्जा) भारत को प्रक्षेपण हेतु देने से मना कर दिया था । तब भारतीय वैज्ञानिकों ने अपने प्रयत्न से ‘स्क्रेनजेट’ इंजन बना लिया जो क्रायोजेनिक इंजन से छ: गुना अधिक यानि 3000 सेक ऊर्जा दे सकता है ।

सौर ऊर्जा का उपयोग

विमानस्योपरि सूर्यस्य शवत्याकर्षणपंजरम्  ।

                                        -वृहद विमानशास्त्रम् ,पृष्ठ 24

सूर्य की विभिन्न प्रकार की किरणों द्वारा रोग चिकित्सा का उल्लेख तो भारतीय वैज्ञानिकों ने किया ही ,साथ ही इन किरणों में व्याप्त ऊर्जाके द्वारा विमान के संचालन का भी उल्लेख किया है । विमानशास्त्र में सूर्यकांत तथा अन्य मणियों को एक ढाँचे में लगाकर सूर्य की शक्ति आकर्षित करके उसके द्वारा विमान चलाने का निर्देश दिया गया है ।

वर्तमान में सौर शक्ति से कई कार्य संभव हो गए हैं । संभव है कुछ समय बाद विमान चालन भी संभव हो जाए ।

Related Artical-

हवाई जहाज की खोज

डॉ. कलाम के आविष्कार

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more
Namak ke Prakar- नमक के प्रकार भारत में

Namak ke Prakar- नमक के प्रकार भारत में

भारत में Namak ke Prakar नमक के प्रकार को जानने के लिए व रस, अम्ल क्षार का उपयोग कैसे होता है यहाँ जानने को मिलेगा । Namak ke Prakar- नमक के प्रकार भारत में सौवर्चलसैन्धवकं चूलिकमामुद्ररोमकविडानि  । षडुूलवणान्येति तु सर्जीयवटंकणाः क्षाराः     । । - रस हृदय, नवम पटल...

read more
Prachin Rasayan Udyog | प्राचीन रसायन उद्योग

Prachin Rasayan Udyog | प्राचीन रसायन उद्योग

भारत में Prachin Rasayan Udyog प्राचीन रसायन उद्योग कब से चला आ रहा है तथा इसके विकाश का क्या असतर रहा है इसे यहाँ समझेगें । Prachin Rasayan Udyog | Ancient Chemical Industry प्राचीन रासयनिक परम्परा- रसायन (रस-अयन) का अर्थ है ‘रस की गति’ । प्राचीन काल से ही भारत में...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more