EVM Se Chhedchhad- EVM से छेड़छाड़ के कई तरीके

Written by Rajesh Sharma

📅 January 30, 2022

EVM Se Chhedchhad

EVM Se Chhedchhad का मतलब गुप्त प्रोग्राम से छेड़छाड़ मनचाहे परिणाम प्राप्त करने के लिए यह सबसे सुरक्षित और आसान तरीका है । यह यहाँ देखेगें ।

EVM Se Chhedchhad- EVM से छेड़छाड़ के कई तरीके

EVM Se Chhedchhad- (क) मशीनों में ट्रोजन वायरस डालना :

ट्रोजन वायरस को सिर्फ मशीन का वह बटन पता होना चाहिए जो फायदा पहुँचनेवाले प्रत्याशी को दिया जाना है । जाहिर है कि यह बटन अलग-अलग चुनाव-क्षेत्रों में अलग-अलग जगह पर होगा लेकिन हैकर्स को विभिन्न बटन कॉम्बिनेशन से सिर्फ यह सुनिश्चित करना होगा कि सॉफ्टवेयर जान सके कि वह बटन कौन-सा है ?

EVM Se Chhedchhad- (ख) माइक्रो वायरलेस ट्रांसमीटर / रिसीवर फिट करना :

EVM की यूनिट में रिमोट कंट्रोल द्वारा संचालित वायरलेस ट्रांसमीटर/रिसीवर चिपकाया जा सकता है । मशीनों में छेड़छाड़ करके मनचाहे परिणाम प्राप्त करने के लिए यह सबसे सुरक्षित और आसान तरीका हो सकता है ।

कम्पनी द्वारा तैयार यह बेहद माइक्रोचिप किसी भी कागज, किताब, टेबल के कोने या किसी अन्य मशीन पर आसानी से चिपकाई जा सकती है और यह किसीको दिखेगी भी नहीं । इस चिप में ही इन-बिल्ट मोडेम, एंटीना, माइक्रो प्रोसेसर और मेमोरी शामिल है । इसके द्वारा 100 पेज का डाटा 10 MB की तीव्रता से भेजा और पाया जा सकता है । यह रेडियो आवृत्ति, (Frequency) उपग्रह और ब्लूटुथ की मिली-जुली तकनीक से काम करती है, जिससे इसके उपयोग करनेवाले को इसके आसपास भी मौजूद रहने की आवश्यकता नहीं है । यंत्रचालक (Operator) कहीं दूर बैठकर भी इसे मोबाइल या किसी अन्य साधन से क्रियान्वित कर सकता है । इसलिए इस माइक्रो वायरलेस ट्रांसमीटर/रिसीवर के जरिये वोटिंग मशीन की कंट्रोल यूनिट को विश्व के किसी भी भाग में बैठकर संचालित और नियंत्रित किया जा सकता है ।

इस माइक्रोचिप को किसी मरीज की कलाई में लगाकर उसका सारा रिकॉर्ड विश्व में कहीं भी लिया जा सकता है, विभिन्न फोटो और डॉक्यूमेंट भी इसके द्वारा पलभर में पाये जा सकते हैं । जब ओसामा बिन लादेन द्वारा उपयोग किये जा रहे फोन की तरंगों को पहचानकर अमेरिका, ठीक उसके छिपने की जगह मिसाइल दाग सकता है, तो आज के उन्नत तकनीकी के जमाने में इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के द्वारा कुछ भी किया जा सकता है ।

यह भी पढें- इलेक्ट्राॅनिक वोटिंग मशीन EVM क्या है ?

EVM (इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन) की असलियत

EVM Se Chhedchhad- (ग) वोटिंग मशीन की गुप्त प्रोग्राम से छेड़छाड़ :

वोटिंग मशीन में जो चिप पर मतगणना का प्रोग्राम रखा जाता है उसे ना ही कोई पढ़ सकता है और ना ही कोई उसका अध्ययन कर सकता है। यहाँ तक कि चुनाव आयोग भी उस प्रोग्राम को खोलकर देख नहीं सकते और अब अगर कोई अपराधी, एक बहुरूपिया चिप बनाकर मशीन में डाल दे तो कोई भी जाँचे बिना बता नहीं सकता।

चुनाव प्रारम्भ होने से पहले एक कृत्रिम मतगणना की जाँच होती हैयह पता करने के लिए कि यंत्र ठीक से काम कर रहे हैं कि नहीं । लेकिन यह बहुत साधारण जाँच है । चुनाव-यंत्र का प्रोग्राम कुछ ऐसा भी किया जा सकता है कि सैंकड़ों मत दर्ज होने के बाद ही वह मतगणना में बेईमानी करे। चुनाव के दौरान सब कुछ सामान्य प्रतीत होगा परंतु वास्तविक परिणाम बेईमान होंगे।

यह भी कहा जाता है कि उम्मेदवारों के क्रम पहले से निर्धारित नहीं होते । ऐसा माना जाता है कि इससे बेईमानों को छेड़छाड़ करने को ज्यादा समय नहीं मिलेगा । अगर हमने मशीन के भीतर ब्लूटुथ यंत्र छिपाया है तो हम मोबाइल फोन के एक खास प्रोग्राम से चुनाव-यंत्र को संकेत भेजकर अपने उम्मेदवार को जिता सकते हैं।

चुनाव आयोग ने राजनैतिक दलों, सुप्रिम कोर्ट के वरिष्ठ वकिल, हरि प्रसाद तथा आयोग की तरफ से टेक्निकल एक्पर्ट प्रोफेसर इन्द्रसेन आदि की हुई बहस का कुछ अंश ।

हरिप्रसाद : ‘‘निर्वाचन आयोग जिस ढंग से EVM की जाँच करता है उसमें कोई भी ऐसा उपाय नहीं है जिससे पता चले कि हैकर (Hacker)) ने EVM मशीन के अंदर माईक्रोचिप या इसके मदर बोर्ड को बदल दिया है या नहीं ।’’

प्रोफेसर इन्द्रसेन : ‘‘मैं मानता हूँ कि सिद्धांतिक रूप से यह सम्भव है लेकिन क्या कोई भी पूरे भारत की 13.8 लाख EVM मशीनों के माईक्रोचिप बदल सकता है ?’’

यह भी पढें-

ईवीएम से धोखाधड़ी पकड़ी गयी

ईवीएम की पूरी कहानी

गलत तरीके से चुनाव जीतने के लिए कितने मत चाहिए

गलत ढंग से चुनाव जीतने के लिए पूरे भारत में EVM मशीनों में गड़बड़ी की आवश्यकता नहीं है । किसी भी चुनाव की जीत-हार केवल थोड़े-थोड़े अंतर से होती है । 2009 के लोकसभा चुनावों में 164 सीटें केवल 4% के अंतर जीती गयी थीं, इनमें से 26 सीटें उत्तरप्रदेश में थीं, आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र में 15-15 सीटें थी, गुजरात में 13 सीटें थी, तमिलनाडु में 11 सीटें थी और कर्नाटक में भी 11 सीटें थीं ।

लोकसभा चुनावों में ऐसे थोड़े-थोड़ेे अंतर से जीतवाले चुनाव क्षेत्रों में 10,000 मतों को इधर-उधर करना किसी भी दौड़ के धावक को विजयी बना सकते हैं । काँटे की टक्करवाले विधानसभा चुनाव क्षेत्रों में केवल 1200 मतों को इधर-उधर करना ही आपका काम बना देगें ।

 

काँग्रेस ने पूर्णबहुमत की 300 सीटों पर धोखाधड़ी क्यों नहीं की ?

सन् 2009 में ये भी सवाल उठाये गये थे कि ‘यदि काँग्रेस पार्टी ने ऐसी गड़बड़ी की होती तो क्यों नहीं 300 सीटों पर धोखाधड़ी की ताकी पूर्ण बहुमत आ जाता ?’ इसका उत्तर यही है कि धाँधली करने की भी एक सीमा होती है, जब महँंगाई अपनी चरम सीमा पर हो, आतंकवाद का मुद्दा सामने हो तब काँग्रेस को पूर्ण बहुमत मिल जाय तो सभीको शक हो जायेगा, इसीलिए चतुराईपूर्ण गड़बड़ी की गयी कि शक न हो सके ।

काँग्रेस को गड़बड़ी करने की आवश्यकता सिर्फ 150 सीटों पर ही थी क्योंकि बाकी बची 390 सीटों में से क्या काँग्रेस 50 सीटें भी न जीतती ? कुल मिलाकर हो गयीं 200, इतना काफी है सरकार बनाने के लिए ।

Related Artical-  EVM का बहिस्कार

EVM रहस्य व साजिश

ईवीएम हैकिंग कैसे होती है ?

EVM से छेडछाड का पहला खिस्सा

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

EVM Haiking Kaise- ईवीएम हैकिंग कैसे होती है ?

EVM Haiking Kaise- ईवीएम हैकिंग कैसे होती है ?

चुनाव के बाद जब मशीनें स्ट्रांग रूम में रख दी जाता है इसके बाद हैकरों का असली काम शुरू होता है । EVM Haiking Kaise होती है यह यहाँ जानेगें । EVM Haiking Kaise- How is EVM hacking done? EVM मशीनें जब उनके निर्धारित चुनाव-क्षेत्रों में भेजी जा चुकी होती हैं तो एक...

read more
EVM ka Virodh | ईवीएम का विरोध- जनता की आवाज

EVM ka Virodh | ईवीएम का विरोध- जनता की आवाज

EVM ka Virodh सिर्फ भारत में ही नही अन्य देशों मे भी होता है क्योकि यह असंवैधानिक है, इसमें धोखाधडी की अनंत संभावनाएं रहती है । EVM ka Virodh | ईवीएम का विरोध- जनता की आवाज * EVM  असंवैधानिक है क्योंकि इसमें वोट की पुष्टि करनेवाला कोई भौतिक सत्यापन का प्रावधान नहीं है...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more