EVM Rahasy Va Sajish | EVM रहस्य व साजिश

Written by Rajesh Sharma

📅 January 30, 2022

EVM Rahasy Va Sajish

जानबूझकर EVM से चुनाव कराये जाते है क्योकि एलिड्स लोगों का यह मुख्य हथियार है ताकि मनचाही सरकार बना सकें यह EVM Rahasy Va Sajish है ।

EVM Rahasy Va Sajish | EVM रहस्य व साजिश

भारत की संसद में EVM अनेक बार असफल हुई है, जिससे सांसदों कोे अपने मत देने में बड़ी कठिनाइयाँ हुई हैं । सितम्बर 2008 में मनमोहन सिंह सरकार के भाग्य का निर्णय करने के लिए अत्यंत महत्त्वपूर्ण गुप्त निर्णायक मतदान सारे देश ने टेलीविजन पर देखा कि संसद के निचले सदन के 54 सदस्य अपना मत इलेक्ट्रॉनिक मशीन के द्वारा देने में असफल रहे ।

फिर अंत में इन सदस्यों को लिखित से मत देने की अनुमति दी गयी । अगर देश की सबसे महत्त्वपूर्ण शक्तिशाली संस्थान संसद की EVM में गड़बड़ी हो सकती है तो आम चुनावों की क्या बात है ।

EVM जाँच करने की योजना को रहस्यपूर्ण ढंग से बंद कर दिया :

चुनाव आयोग द्वारा गठित विशेषज्ञ कमेटी ने अपनी 2006 की रिपोर्ट में इस EVM माईक्रोचिप के निर्माणकर्ताओं को सुझाव दिया था वे EVM माईक्रोचिप के सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर दोनों की प्रमाणिकता का प्रमाण देनेवाले ‘अथेन्टीकेशन यूनिट’ (Authentication Unit) परियोजना को अमल में लाये । लेकिन खुद निर्वाचन आयोग ने षड्यंत्रपूर्ण तरीके से इस योजना को कचरे की पेटी में डाल दिया ।

यह भी पढें-

ईवीएम से धोखाधड़ी पकड़ी गयी

EVM से छेड़छाड़ के कई तरीके

EVM Rahasy Va Sajish क्रमानुसार

2006 में EVM के निर्माताओं (BEL और ECIL) ने बंगलौर की एक सीक्योर स्पीन (Securespin) नामक कम्पनी की सेवाएँ ‘अथेन्टीकेशन यूनिट’ (Authentication Unit) परियोजना के विकास के लिए, निर्वाचन कमीशन की विशेषज्ञ समिति से विचार-विमर्श किया । और 2007 के मध्य तक समिति द्वारा EVM की जाँच करने की निर्धारित शर्तों या नियमों के अनुसार इसका एक नमूना तैयार किया गया ।

जैसे ही परियोजना लागू करने के लिए तैयार हुई तभी विशेषज्ञ समिति को एक रहस्यपूर्ण ढंग से स्थगित कर दिया गया । BEL के जनरल मैनेजर जिसकी निगरानी में यह परियोजना लागू होने जा रही थी उनका स्थानांतरण कर दिया गया । नये जनरल मैनेजर ने सीक्योर स्पीन (Securespin) को बताया कि निर्वाचन कमीशन के निर्देशानुसार यह परियोजना ताक पर रख दी गयी है ।

Related Artical-

EVM का बहिस्कार

EVM (इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन) की असलियत

वोटिंग मशीन के बँटवारे में धोखाधड़ी- EVM Rahasy Va Sajish

आर.टी.आई. द्वारा प्राप्त सूचना के आधार पर 2009 के लोकसभा चुनावों में 13.78 लाख इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें सम्पूर्ण भारत में उपयोग की गयीं । निर्वाचन आयोग ने केवल 4.48 लाख सुधार की हुई उन्नत मशीनें (amper-proof – जिनका माईक्रोचिप अनधिकृत रूप से परिवर्तन न किया जा सके) लगायीं । बाकी 9.3 लाख पुरानी मशीनों का प्रयोग किया गया । ये पुरानी मशीनें बनानेवाली कम्पनी की तकनीकी कमेटी के अनुसार सुरक्षा के मानदंड पर खरी नहीं उतरतीं ।

सुधार की हुई नयी उन्नत वोटिंग मशीनों का प्रयोग केवल भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेशनल डेमाक्रेटिक अलायंस (NDA) द्वारा शासित प्रदेशों बिहार, छत्तीसगढ़, गुजरात और कुछ मुख्य विरोधी दलों पश्चिमी बंगाल में लेफ्ट-फ्रेंट तथा उत्तरप्रदेश में बहुजन समाजवादी पार्टी द्वारा शासित प्रदेशों में ही किया गया । पुरानी वोटिंग मशीनों का प्रयोग काँग्रेस व इसके साथी दलों द्वारा शासित प्रदेशों जैसे कि आंध्रप्रदेश, आसाम, दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र, राजस्थान और तमिलनाडु में किया गया । For More Information Visit  : https://bit.ly/3rTOyJi

Related Artical-

ईवीएम का विरोध- जनता की आवाज

ईवीएम हैकिंग कैसे होती है ?

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

EVM Haiking Kaise- ईवीएम हैकिंग कैसे होती है ?

EVM Haiking Kaise- ईवीएम हैकिंग कैसे होती है ?

चुनाव के बाद जब मशीनें स्ट्रांग रूम में रख दी जाता है इसके बाद हैकरों का असली काम शुरू होता है । EVM Haiking Kaise होती है यह यहाँ जानेगें । EVM Haiking Kaise- How is EVM hacking done? EVM मशीनें जब उनके निर्धारित चुनाव-क्षेत्रों में भेजी जा चुकी होती हैं तो एक...

read more
EVM ka Virodh | ईवीएम का विरोध- जनता की आवाज

EVM ka Virodh | ईवीएम का विरोध- जनता की आवाज

EVM ka Virodh सिर्फ भारत में ही नही अन्य देशों मे भी होता है क्योकि यह असंवैधानिक है, इसमें धोखाधडी की अनंत संभावनाएं रहती है । EVM ka Virodh | ईवीएम का विरोध- जनता की आवाज * EVM  असंवैधानिक है क्योंकि इसमें वोट की पुष्टि करनेवाला कोई भौतिक सत्यापन का प्रावधान नहीं है...

read more

New Articles

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! (Nepali)

यस Mangalamaya mrtyu लेखमा अवश्यम्भानी मृत्युलाई कसरी मङ्गलमय बनाउनेबारे जान्नुहुने छ। Mangalamaya mrtyu ! | मङ्गलमय मृत्यु ! सन्तहरूको सन्देश हामीले जीवन र मृत्युको धेरै पटक अनुभव गरिसकेका छौ । सन्तमहात्माहरू भन्छन्, ‘‘तिम्रो न त जीवन छ र न त तिम्रो मृत्यु नै हुन्छ ।...

read more
Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध (Nepali)

यस Sadgatiko raajamaarg : shraaddh लेखमा मृतक आफन्त आदिको श्राद्धले उसको सद्गति हुने तथा उसको जीवात्माको शान्ति हुन्छ भन्ने कुरा उदाहरणसहित सम्झाइएको छ। श्राद्धा सद्गगतिको राजमार्ग हो। Sadgatiko raajamaarg : shraaddh | सद्गतिको राजमार्ग : श्राद्ध श्रद्धाबाट फाइदा -...

read more
Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू (Nepali)

यस Vyavaharaka kehi ratnaharu लेखमा केही मिठो व्यबहारका उदाहरणहरू दिएर हामीले पनि कसैसित व्यवहार सोही अनुसार गर्नुपर्छ भन्ने सिक छ। Vyavaharaka kehi ratnaharu | व्यवहारका केही रत्नहरू शतक्रतु इन्द्रले देवगुरु बृहस्पतिसँग सोधे : ‘‘हे ब्रह्मण ! त्यो कुन वस्तु हो जसको...

read more
Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल (Nepali)

यस Garbhadharaṇa ra sambhogakala लेखमा दिव्य सन्तान पाउनका लागि सम्भोग गर्ने समय र विधि बताइएको छ। Garbhadharaṇa ra sambhogakala | गर्भधारण र सम्भोगकाल सहवास हेतु श्रेष्ठ समय * उत्तम सन्तान प्राप्त गर्नका लागि सप्ताहका सातै बारका रात्रिका शुभ समय यसप्रकार छन् : -...

read more
Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल

यस Santa avahēlanākō phala लेखमा सन्त महापुरुषको अवहेलनाबाट कस्तो दुष्परिणाम भोग्नुपर्छ भन्ने ज्ञान पाइन्छ। Santa avahēlanākō phala | सन्त अवहेलनाको फल आत्मानन्दको मस्तीमा निमग्न रहने कुनै सन्तलाई देखेर एक जना सेठले सोचे, ‘ब्रह्मज्ञानीको सेवा ठुलो भाग्यले पाइन्छ ।...

read more
Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

Bharat Ka Sanskritik Samrajya । भारत का सांस्कृतिक साम्राज्य

प्राचीन काल में Bharat Ka Sanskritik Samrajya पूरे विश्व में फैला हुआ था । हमारे इतिहार व प्राप्त खुदाई के साक्ष्य इसके गवाहा हैं । Bharat Ka Sanskritik Samrajya । Cultural Empire Of India प्राचीन समय में आर्य सभ्यता और संस्कृति का विस्तार किन-किन क्षेत्रों में हुआ...

read more