संस्कृति रक्षक संघ

संस्कृति रक्षक संघ’ एक स्वतंत्र व निष्पक्ष संगठन है, जो कि भारतीय संस्कृति की रक्षा व प्रचार के लिए संकल्पबद्ध है ।

‘संस्कृति रक्षक संघ’ एक स्वतंत्र व निष्पक्ष संगठन है, जो कि भारतीय संस्कृति की रक्षा व प्रचार के लिए संकल्पबद्ध है । यह संगठन भारतीय संस्कृति के जीवनमूल्यों को एवं लुप्त हो रहीं पावन परम्पराओं को पुनर्स्थापित कर अध्यात्मिक राष्ट्रनिर्माण का कार्य कर रहा है तथा यह युवाओं में संस्कृतिप्रेम जगाने के कार्य को प्राथमिकता देता है ।

यह संगठन सभी संस्कृतिप्रेमी संगठनों व राष्ट्रप्रेमियों के साथ मिलकर चलने के लिए कटिबद्ध है । यह ऐसे सभी प्रयासों को तत्परता से करता है, जिनसे देशवासी अपने शास्त्रों, संतों, महापुरुषों एवं ऋषियों के बताये हुए मार्ग का तन-मन-धन से अनुसरण करते हुए उन्नत व सुसम्पन्न बनें ।

‘संस्कृति रक्षक संघ’ सनातन संस्कृति के प्रचार-प्रसार में लगे हुए सभी संगठनों का मित्र संगठन है, यहाँ तक कि विश्व कल्याण में संलग्न सभी देशों का भी सहयोगी है ।

किसी भी राष्ट्र का मूल आधार उसकी संस्कृति है । भारतीय संस्कृति विश्व मानव समाज को उन्नति के शिखर पर पहुँचाने में सक्षम है, परंतु भारत की वर्तमान पीढ़ी अपनी संस्कृति के प्रति या तो उदासीन हो गयी है या तो इसकी महत्ता और उपयोगिता समझ नहीं पा रही है । यही कारण है कि पूरे विश्व में विश्वगुरु की नाईं पूजा जानेवाला भारत आज ऐसे दिन देख रहा है ।

आज सबसे ज्यादा आवश्यकता इस बात की है कि हम अपनी अनमोल धरोहर इस वैदिक संस्कृति की रक्षा करने के लिए एकजुट हो जायें तथा अपनी संस्कृति के दिव्य संस्कारों को पुनः अपनायें, अपने जीवन में उतारें । अन्यथा जिस प्रकार सामाजिक जीवन में अशांति, उद्वेग, हताशा-निराशा, आत्महत्याएँ, लूट-खसोट आदि बुराइयाँ हम देख रहे हैं, उनसे हम सामाजिक तो क्या, व्यक्तिगत या कौटुम्बिक रूप से भी नहीं बच पायेंगे ।

अतः भारतीय सनातन संस्कृति के संरक्षण-संवर्धन एवं प्रचार-प्रसार के उद्देश्य से ‘‘संस्कृति रक्षक संघ’’ की स्थापना की गयी है । इस संघ का मूल उद्देश्य सनातन संस्कृति के संस्कारों को जन-जन के जीवन में लाना है Ÿ। संस्कृति-उत्थान हेतु इस संघ द्वारा की जा रहीं सत्प्रवृत्तियाँ राष्ट्रनिर्माण का एक सफल प्रयास हैं ।

क्याआप जानते हैं
आप अपनी भावी पीढ़ी को क्या देकर जायेंगे ?

आज से लगभग 200 वर्ष पूर्व कंधार देश (अफगानिस्तान) में, लगभग 100 वर्ष पूर्व कराची व लाहौर में तथा 50 वर्ष पूर्व भारत के श्रीनगर में वहाँ के लोग अपनी वैदिक संस्कृति के अनुसार पूजा-पाठ, भजन-कीर्तन तथा जीवनयापन करते थे । लेकिन आज वहाँ ऐसा कुछ भी नहीं है । लगातार बढ़ती हुईं इस प्रकार की घटनाओं को देखकर आप खुद ही सोचें कि पचास साल बाद हमारी भावी पीढ़ी क्या भगवान की आरती, पूजा, भजन करने की स्थिति में बची रहेगी ? भारतीय संस्कृति के जीवन मूल्यों, ऋषियों के दिव्य ज्ञान व राष्ट— को सुरक्षित रख पायेगी ?
तर्कशास्त्र तो कहता है नहीं, बिल्कुल नहीं ।
तो क्या हम अपनी भावी पीढ़ियों को निंदित, निर्लज्ज पाश्चात्य संस्कृति की ही धरोहर देकर जायेंगे ?
यदि नहीं, तो अपनी गहरी निद्रा से जागिये और इस चुनौति का सामना करने के लिए तैयार हो जाइये । अपनी भारतीय संस्कृति कायरता छोड़कर शूरता अपनाने का संदेश देती है । ‘संस्कृति रक्षक संघ’ आपको गहरी निद्रा से जगा रहा है, आपको अपनी भारतीय सनातन संस्कृति की रक्षा के लिए उठना ही होगा !
वंदे मातरम् ! जय भारत ।

Sanskruti Rakshak Sangh (S.R.S.)

‘Sanskruti Rakshak Sangh’ is an independent and impartial organization, which is firmly committed to protect and propagate the Indian culture.

S.R.S. is an independent and impartial organization, which is firmly committed to protect and propagate Indian culture. The Sangh is engaged in the task of reinstating the decaying values and traditions of Indian culture. Foremost on its agenda is to inculcate in the youth a feeling of love and respect for culture.

The Sangh is determined to work shoulder to shoulder with all organizations and individuals, that cherish their culture and their nation in pursuit of endeavours through which the citizens of the nation may attain progress and prosperity by devotedly pursuing the path as shown by the holy scriptures, saints, great souls and Rishis.

S.R.S. is a social ally to all the organizations engaged in the promotion and propagation of Sanatan culture. Moreover, it is also a supporter of all the countries pursuing global welfare.

The foundation of any nation is its culture. The Indian culture is capable of elevating humanity right to the pinnacle of prosperity, but the present generation of India has either become indifferent towards its culture or is unable to understand its actual significance and value. This is the reason why India, revered around the world as ‘Vishwa Guru’ (the leader of the world), is currently passing through such a deplorable state.

The most important thing today is that all of us should get united to protect our most precious possession, the Vedic culture; and should reinstate the divine values thereof by putting them into practice. Otherwise, the way evils like distress, agitation, anxiety, dejection, disappointment, suicides, robbery etc. are becoming rampant, we will degenerate even as a family or a person not to speak of as a society.

The ‘Sanskruti Rakshak Sangh’ has been set up with an objective of protecting, fostering, promoting and propagating the Sanatan Culture. The primary objective of this Sangh is to instill the degenerative values and traits of Sanatan culture in the life of each and every individual. The noble endeavours of this Sangh for cultural uplift are singularly conducive to nation building.

Primary undertakings

  1. To carry the elevated ideals of the Indian Sanatan Culture to each and every individual,.
  2. To serve the people through medical camps, cow-sheds, annapurna mandir (Mass eating-places) etc.
  3. To propagate medical treatment through yoga and Ayurvedic method.
  4. To work for the social, economic and moral uplift of the poor and backward people.
  5. To promote and propagate the Sanatan Culture amongst the people through the medium of Vedic exhibitions.
  6. To forge social harmony by removing untouchability and discrimination.
  7. To reinstate the culture of Gurukuls which is gradually fading away.
  8. To convey information regarding the beneficial Govt. schemes to the people and help them get the benefits thereof while working as a social organization.
  9. To warn people against addictions, evil-customs, anti-social activities increasingly plaguing society and to conduct campaigns for the protection of the symbols of Indian culture like abbeys, temples, ashrams, places of pilgrimage, sages, saints, cows, holy rivers etc.